​दोषियों के साथ काम नहीं करेगी, 11 महिला डायरेक्टर्स ने “#मीटू” के तहत मोर्चा खोला

​दोषियों के साथ काम नहीं करेगी, 11 महिला डायरेक्टर्स ने “#मीटू” के तहत मोर्चा खोला

तनुश्री दत्ता ने नाना पाटेकर पर योंन शोषण के आरोप लगा करे बॉलीवुड में सनसनी से फैला दी हैं. इसके बाद अब तक साजिद खान, आलोक नाथ, विकास बहल, सुभाष घई, भूषण कुमार, पियूष मिश्रा और बहुत से लोगो पर बॉलीवुड और मीडिया के काम करने वाली महिलाओ में काफी आरोप लगाये हैं.

​दोषियों के साथ काम नहीं करेगी, 11 महिला डायरेक्टर्स ने “#मीटू” के तहत मोर्चा खोला
​दोषियों के साथ काम नहीं करेगी, 11 महिला डायरेक्टर्स ने “#मीटू” के तहत मोर्चा खोला

​दोषियों के साथ काम नहीं करेगी, 11 महिला डायरेक्टर्स ने “#मीटू” के तहत मोर्चा खोला

इसके चलते हैं, भारतीय फिल्म इंडस्ट्री की 11 महिला फिल्मकारों और एक्ट्रेस ने यौन उत्पीड़न में दोषी साबित होने वाले किसी के साथ भी काम नहीं करने का फैसला किया है.

एक्ट्रेस कोंकणा सेना शर्मा, नंदिता दास, मेघना गुलजार, गौरी शिंदे, किरण राव, रीमा कागती और जोया अख्तर जैसी कई निर्देशक उन 11 महिला फिल्म निर्माताओं में शामिल हैं जिन्होंने भारत के मी टू अभियान को अपना समर्थन देने की प्रतिबद्धता जाहिर की है.

निर्देशकों द्वारा जारी एक बयान में कहा गया है, ‘‘महिला और फिल्म निर्माताओं के रूप में, हमने #मी टू इंडिया अभियान को अपना समर्थन देने का फैसला किया है. हम उन महिलाओं के साथ पूरी एकजुटता के साथ खड़े हैं जो यौन उत्पीड़न के मामलों को लेकर पूरी ईमानदारी के साथ आगे आई हैं.’’

बयान में कहा गया है,‘‘हम कार्यस्थल में सभी के लिए एक सुरक्षित और समान वातावरण बनाने में मदद के लिए जागरूकता फैलाने के लिए यहां हैं. हमने दोषी साबित होने वाले लोगों के साथ काम न करने का भी रूख अपनाया है. हम उद्योग में अपने सभी सहकर्मियों से भी ऐसा करने के लिए आग्रह करते हैं.’’

महिला फिल्म निर्माताओं की इस सूची में अलंकृता श्रीवास्तव, नित्या मेहरा, रूचि नारायण और सोनाली बोस शामिल हैं.

Leave a Comment